Sunday, September 28, 2008

टूटे फूलों से भी महक पाओगे


दर्द में भी जो हंसना चाहो,
तो हंस पाओगे,
टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
तो उनमें भी महक पाओगे।

जिन्दगी किसी ठहराव में,
कंही रुकती नहीं,
हिम्मत जो करोगे तो
मन्जिल में दोस्तों को पाओगे,
टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
तो उनमें भी महक पाओगे।


अरमान कभी पूरे नहीं होते,
जो देखे जाते हैं,
वो भी आंसुओं के साथ,
आंखों से निकल जाते हैं,
फिर भी, किसी की खातिर,
खुद को सवांरोगे तो,
सराहे जाओगे,
टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
तो उनमें भी महक पाओगे।
..............
प्रीती बङथ्वाल "तारिका "
(चित्र-सभार गुगल)

29 comments:

  1. अरमान कभी पूरे नहीं होते,
    जो देखे जाते हैं,
    वो भी आंसुओं के साथ,
    आंखों से निकल जाते हैं,
    फिर भी, किसी की खातिर,
    खुद को सवांरोगे तो,
    सराहे जाओगे,
    टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।
    sunder ....maja a gaya

    ReplyDelete
  2. प्रीती जी आप की यह रचना लाजवाब। आपकी ने अभिव्यक्ति को शब्दों के माध्यम से पूर्णतः साकार रूप दिया है । इस सुन्दर कविता के लिए मेरी ओर से बधाई स्वीकार करें।

    ReplyDelete
  3. जिन्दगी किसी ठहराव में,
    कंही रुकती नहीं,
    हिम्मत जो करोगे तो
    मन्जिल में दोस्तों को पाओगे,
    टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।

    हमेशा की तरह ये भी उम्दा।

    ReplyDelete
  4. फिर भी, किसी की खातिर,
    खुद को सवांरोगे तो,
    सराहे जाओगे,

    ये पंक्तियां बहुत अच्छी लगीं।

    ReplyDelete
  5. Dard men bhi jo hansana chahoge to hans paoge. bilkul sahi kaha hai aapne. agar aadmi chahe to musibaton se bhi hans kar samna kar sakta hai aur agar jeena nahin aaye to sab kuchh pakar bhi rota rah sakta hai.Preetiji, achhi hoti hain aapki rachnayen.

    ReplyDelete
  6. preetiji,
    jindagi key liye isi zazbey ki jaroorat hoti hai.

    दर्द में भी जो हंसना चाहो,
    तो हंस पाओगे,
    टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।

    achchi aur prernadayak kavita likhi hai aapney.

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. तस्‍वीर में जो गुलाब दि‍ख रहें हैं, वो पानी में कमल की तरह खि‍ल उठें हैं। तस्‍वीर भी आपकी कवि‍ता की व्‍याख्या-सी है। बहुत अच्‍छी बात कही-
    टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।

    ReplyDelete
  8. हिम्मत जो करोगे तो
    मन्जिल में दोस्तों को पाओगे,
    बहुत ही सुन्दर हे आप की यह कविता,
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. दर्द में भी जो हंसना चाहो,
    तो हंस पाओगे,
    टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।

    लाजवाब , बेहतरीन रचना..

    ReplyDelete
  10. टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।

    क्या सही बात कही, इतना नहीं कविता का हर शब्द प्रेरक है...

    ReplyDelete
  11. जिन्दगी किसी ठहराव में,
    कंही रुकती नहीं,
    हिम्मत जो करोगे तो
    मन्जिल में दोस्तों को पाओगे...

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रचना है.

    बेटियों के इस विशेष दिवस पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  13. अति सुन्दरतम रचना ! शुभकामनाएं !
    आज बेटी दिवस है ! इस पर ताऊ की तरफ़ से तुमको
    आशीष ! खूब अच्छा लिखो और नाम करो !

    ReplyDelete
  14. अरमान कभी पूरे नहीं होते,
    जो देखे जाते हैं,
    armaan dekhe jaate hain kya?
    sapne dekhe jaate hain dear..
    man sundar hai tumhara..
    chhand men likho to chhand ko pooree tarah se follow karo..its friendly suggestion..
    u may mind it..but..even though i want to say..

    ReplyDelete
  15. टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।
    really touch my heart...
    sunder...

    ReplyDelete
  16. aapki anya rachnao ki tarah ye rachana bhi khoobsoorat hai,
    अरमान कभी पूरे नहीं होते,
    जो देखे जाते हैं,
    वो भी आंसुओं के साथ,
    आंखों से निकल जाते हैं,
    फिर भी, किसी की खातिर,
    खुद को सवांरोगे तो,
    सराहे जाओगे,

    sundar rachana sandesh deti huye.

    vishal

    ReplyDelete
  17. ठीक भी है ""बात रोने की लगे फिर भी हंसा जाता है ,यूँ भी हालात से समझोता किया जाता है "

    ReplyDelete
  18. PAHLI BAAR AAPKE BLOG PER AAYA. SUNDAR KAVITA HAI AAPKI.


    APKA JAIPUR SE KOI VASTA HAI KAYA. MEIN JUST YE JALMAHAL KI PHOTO DEKH KAR POOCH RAHA HUN.

    ReplyDelete
  19. sachmuch moti to gahare sagar me utarane se hee milte hai. kisi ne kha bhee hai "jin khoja tin paiyan"

    ReplyDelete
  20. अरमान कभी पूरे नहीं होते,
    जो देखे जाते हैं,
    वो भी आंसुओं के साथ,
    आंखों से निकल जाते हैं,
    फिर भी, किसी की खातिर,
    खुद को सवांरोगे तो,
    सराहे जाओगे,
    टूटे फूलों को भी पानी में डालो,
    तो उनमें भी महक पाओगे।

    nice..

    ReplyDelete
  21. सराहना ही
    सावन है

    खुशियों का।

    ReplyDelete
  22. JINDGI ME SANGHARS KARO TO
    EK DIN MANZIL KO PAOGE,
    RAKH0 HAUSLA JITNE KI TO
    TUFANO ME BHI RAH BAN JAYENGE

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय