Thursday, September 25, 2008

अजनबी ही रहने दो

अजनबी ही रहने दो,
अब ये रास्ते हमारे,
खुद लहू हो जाएंगे,
जो अब, हम इसे सवारें,
अजनबी ही रहने दो,
अब ये रास्ते हमारे।

बिखरे हुए ख्वाबों की,
एक किताब लिख रही थी,
ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
हर बात लिख रही थी,
उनमें कुछ लम्हों को हमने,
आंसुओं में भी उतारे,
अजनबी ही रहने दो,
अब ये रास्ते हमारे।

दिल जानता था वो लम्हा,
मेरे आस-पास ही कहीं था,
वो, न दूर होगा मुझसे,
इस बात का यंकी था,
पर फिर भी उसके एहसास को हमने,
अन्धेरों में गुजारे,
अजनबी ही रहने दो,
अब ये रास्ते हमारे।
............
प्रीती बङथ्वाल "तारिका"
(चित्र-सभार गुगल)

33 comments:

  1. प्रीति जी आप की जितनी भी रचनाएं पढी है सभी लाजवाब है। शब्द चयन बहुत ही प्रभावित करता है

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन लि‍खा है। खास तौर पर-

    दिल जानता था वो लम्हा,
    मेरे आस-पास ही कहीं था,
    वो, न दूर होगा मुझसे,
    इस बात का यंकी था,
    पर फिर भी उसके एहसास को हमने,
    अन्धेरों में गुजारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।

    ReplyDelete
  3. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।

    प्रीती जी बहुत ही अच्‍छा लिखा है अति सुंदर

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत...
    अजनबी ही रहने दो..
    बहुत बढ़िया...
    जारी रहे..

    ReplyDelete
  5. िखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    बहुत सुंदर लिखा है

    ReplyDelete
  6. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।



    बहुत खूब..

    ReplyDelete
  7. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।
    बहुत सुंदर लिखा है

    ReplyDelete
  8. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।

    बहुत सुन्दर। अच्छा लगा पढकर।

    ReplyDelete
  9. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।............
    bahot hi sundar bhav dala hai ,bahot hi sundar rachana ka liye aapko dhero badhai.........

    regards

    ReplyDelete
  10. पर फिर भी उसके एहसास को हमने,
    अन्धेरों में गुजारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।
    सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई। वैसे बशीर बद्र साहब भी कहते हैं कि- "मैं अपने जेब में अपना पता नहीं रखता"

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,

    बहुत सुंदर लिखा ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  12. अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।.......
    bahut hi aantarik anubhuti ko shabdon me dhaala hai,
    sundar

    ReplyDelete
  13. क्या बात हे बहुत ही खुब सुरत कविता हे...
    बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।
    बहुत अच्छा लिखा है आप ने ..बधाई

    ReplyDelete
  15. एक अच्छी कविता पढ़वाने के लिए धन्यवाद
    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  16. नहीं रहने देंगे हम
    अजनबी
    ढूंढ लेंगे पता आपका
    कहीं भी छिप जाइएगा
    आप
    बाज की सी नजर
    रखते हैं हम।

    ReplyDelete
  17. प्रीती जी बहुत खूब बात दिल तक उतर गई।

    ReplyDelete
  18. ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी

    good work. keep it up.

    ReplyDelete
  19. hey baalike

    kabhi doosro par jakar bhi comment karo.

    ReplyDelete
  20. बिखरे हुए ख्वाबों की,
    एक किताब लिख रही थी,
    ज़मी से लेकर उन रास्तों की,
    हर बात लिख रही थी,
    उनमें कुछ लम्हों को हमने,
    आंसुओं में भी उतारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।

    सुन्दर अभिव्यक्ति है तारिका जी ..
    शुभकामानायें.

    ReplyDelete
  21. मोहन वशिष्‍ठ नाकि मनोज

    ReplyDelete
  22. प्रीती बहुत ही सुंदर भाव और शब्द ।

    ReplyDelete
  23. आप सभी का आभार।

    ReplyDelete
  24. der se aane ke liye kshamaa ki kya baat beta,han amma niyam se nahi aa pati, tumhaari kalam ,tumhare vichaaron ki sashaktata ko mera aashirwaad,bahut bhaw bheeni rachnayen hain

    ReplyDelete
  25. preetiji,
    bahut sundar shabdon mein dil key jazbaton ko bayan kiya hai. ye panktiyan to dil per gahrai sey dastak deti hain.

    दिल जानता था वो लम्हा,
    मेरे आस-पास ही कहीं था,
    वो, न दूर होगा मुझसे,
    इस बात का यंकी था,
    पर फिर भी उसके एहसास को हमने,
    अन्धेरों में गुजारे,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।

    achchi kavita key liye badhai. kabhi mere blog per bhi aayein.

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे,
    खुद लहू हो जाएंगे,
    जो अब, हम इसे सवारें,
    अजनबी ही रहने दो,
    अब ये रास्ते हमारे।
    bahut hi umda bhavapoorn .

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय