Saturday, August 9, 2008

सिर्फ इंतज़ार होगा.......

कुछ ख्वाब,
जो एक उम्मीद के सहारे थे,
वो, जो अपनी मंजिल से,
कुछ दूर, किनारे पे थे,
शायद इस इंतज़ार में थे,
कि उनको भी कोई सहारा देगा,
अपनी कश्ती से,
उनको भी किनारा देगा,
न मालूम था,
कभी न खत्म होने वाला,
ये इंतज़ार होगा,
ये इंतज़ार एक बार नहीं,
बार-बार होगा,
जब तक कि ये आंसू थम न जाए,
जब तक कि ये सांसे रुक न जाए,
सिर्फ इंतज़ार....इंतज़ार......
इंतज़ार होगा।
...............
प्रीती बङथ्वाल "तारिका"

10 comments:

  1. Visite meu blog.

    www.vivendoaoextremo.blogspot.com

    Beijos e abraços!

    ReplyDelete
  2. Thank you, poem ,not in meter , a random is quite capable of loading thoughts. keep it up to write more
    Kshetrapal Sharma

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा लिखा है, लिखते रहें

    ReplyDelete
  4. प्रीति जी, बधाई.
    आपकी भावाभिव्यक्ति प्रशंसनीय है.
    निरन्तरता बनाए रखें...

    ReplyDelete
  5. bahut sunder,badhai aapko,ab aapko padhne ka intezaar rahega,intezaar rahega.............

    ReplyDelete
  6. जब तक कि ये आंसू थम न जाए,
    जब तक कि ये सांसे रुक न जाए,
    सिर्फ इंतज़ार....इंतज़ार......
    इंतज़ार होगा।


    -बहुत भावपूर्ण रचना-बधाई.

    ReplyDelete
  7. इंतजार इंतजार .............इंतजार।
    अति सुन्दर।

    ReplyDelete
  8. More thanks for emotional writing. Priri ji life is struggle, please accept it. You should write continue. You are a great writer.

    ReplyDelete
  9. उम्दा..
    बेहतरीन...
    बहुत भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  10. तारिका जी दुआ है कि ऐसा कोई इन्तिज़ार जो अगर आपको है तो वह जल्द ही ख़त्म हो जाये!

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय