Friday, May 15, 2009

तुम दीया हो, मैं हूं बाती सनम........

हम एक सफर के,
साथी सनम,
तुम दीया हो,
मैं हूं बाती सनम,
दिल के चमन में,
जब खिलते गुलाब,
कांटों के संग,
खुशबू आती सनम।



जीवन में साथ,
निभाने की कसमें,
पत्थर में,
नाम लिखाने की रसमें,
वो दरख़तों के नीचे,
शाम बितानी सनम,
हम एक सफर के,
साथी सनम,
तुम दीया हो,
मैं हू बाती सनम।



खुली धूप में,
छत पे बातें बनाना,
कभी पलके उठना,
कभी, शरमा के झुकाना,
नजरों की नजर से,
आंखे बचाना,
यूं ही छुप-छुप के,
अपना मिलना सनम,
हम एक सफर के,
साथी सनम,
तुम दीया हो,
मैं हूं बाती सनम।
...........
प्रीती बङथ्वाल "तारिका"
(चित्र- साभार गूगल)

17 comments:

  1. हम एक सफर के,
    साथी सनम,
    तुम दीया हो,
    मैं हूं बाती सनम।

    --बहुत भावपूर्ण!!!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर भावाभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  3. खुली धूप में,
    छत पे बातें बनाना,
    कभी पलके उठना,
    कभी, शरमा के झुकाना,
    नजरों की नजर से,
    आंखे बचाना,
    यूं ही छुप-छुप के,
    अपना मिलना सनम,

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति दी आपने शब्दों से. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. geet ka mukhda to kisi film ke gaane men suna hua hai.....

    ReplyDelete
  5. जीवन में साथ,
    निभाने की कसमें,
    पत्थर में,
    नाम लिखाने की रसमें,
    वो दरख़तों के नीचे,
    शाम बितानी सनम,
    हम एक सफर के,
    साथी सनम,
    तुम दीया हो,
    मैं हू बाती सनम।

    वाह बहुत खूब प्रीती जी। दिल से लिखी गई रचना। पसंद आई।

    ReplyDelete
  6. humein to bahut pasand aayi ...bahut achchhi lagi

    ReplyDelete
  7. दिल के चमन में,
    जब खिलते गुलाब,
    कांटों के संग,
    खुशबू आती सनम।

    वाह............
    दिल की आवाज की एक खूबसूरत अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  8. "जीवन में साथ,
    निभाने की कसमें,
    पत्थर में,
    नाम लिखाने की रसमें,"

    रचना बहुत अच्छी लगी।प्रेम भरे भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  9. भावपूर्ण सुन्दर काव्य

    ReplyDelete
  10. sundar ! preeti ji, achha bhav, achchhi lay, aur achhi prustuti,

    Badhai ho! .

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर तुम बाती हो मै दिया हूँ सनम . बेहतरीन लिखा है . आभार

    ReplyDelete
  12. खुली धूप में,
    छत पे बातें बनाना,
    कभी पलके उठना,
    कभी, शरमा के झुकाना,
    नजरों की नजर से,
    आंखे बचाना,khoobsurat ahsaas khubsurat tareeke se kahe....

    ReplyDelete
  13. आपकी इस रचना को महारा हरयाणा ब्लॉग पर शामिल गया है

    संजय भास्कर
    http://bloggersofharyana.blogspot.in

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय