Saturday, March 7, 2009

तू इस तरहा से मेरी जिन्दगी में शामिल है।....

जैसे हवाओं में
महक का घुलना,
फूल में,
खुशबू का मिलना,
ख्वाब का,
पलकों में पलना,
रोशनी का,
दिये से जलना,
तू इस तरहा से,
मेरी जिन्दगी में शामिल है।


जैसे सीप में
मोती का मिलना,
बारिश में,
इन्द्रधनुष बनना,
होठों में,
हंसी का खिलना,
मंदिर में,
शंखनाद होना,
तू इस तरहा से,
मेरी जिन्दगी में शामिल है।
...........
प्रीती बङथ्वाल "तारिका"
(चित्र - साभार गूगल)

18 comments:

  1. क्या बात है-बहुत उम्दा, प्रीती जी.

    ReplyDelete
  2. jaise garm joshi se hath ka hath se milana. narayan narayan

    ReplyDelete
  3. होली की बधाई सहित ... ढेरो बधाइयाँ आपको इस सुन्दर कविता के लिए...

    अर्श

    ReplyDelete
  4. प्रीती जी, सबसे पहले तो बधाई स्वीकार करें, बहुत अच्छा लिखती हैं आप, मेरी पोस्ट पर आपके दिए कमेन्ट को पढ़ कर अच्छा लगा, मैं उदास नहीं था क्यूंकि मैं खुद इसी चीज़ में यकीन रखता हूँ की हमेशा खुश रहो, मैं सोच रहा था की जो गलत धारणा इनकी बनी है उसको कैसे दूर किया जाये इसीलिए मैंने कुछ सवाल अपने पाठको से पूछे थे....

    ReplyDelete
  5. प्रीती जी, सबसे पहले तो बधाई स्वीकार करें, बहुत अच्छा लिखती हैं आप, मेरी पोस्ट पर आपके दिए कमेन्ट को पढ़ कर अच्छा लगा, मैं उदास नहीं था क्यूंकि मैं खुद इसी चीज़ में यकीन रखता हूँ की हमेशा खुश रहो, मैं सोच रहा था की जो गलत धारणा इनकी बनी है उसको कैसे दूर किया जाये इसीलिए मैंने कुछ सवाल अपने पाठको से पूछे थे....

    ReplyDelete
  6. तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है ....बहुत अच्छा लगा पढ़कर
    होली मुबारक

    ReplyDelete
  7. बारिश में,
    इन्द्रधनुष बनना,
    होठों में,
    हंसी का खिलना,
    मंदिर में,
    शंखनाद होना,
    तू इस तरहा से,
    मेरी जिन्दगी में शामिल है।
    very sweet
    meet

    ReplyDelete
  8. बिम्ब अच्छे है.

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर कविता । मन प्रसन्न हुआ । बधाई

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर रचना.
    धन्यवाद


    आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी भीगी भीगी बधाई।
    बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

    ReplyDelete
  12. mere liye kahne ko kuchh nahiN chhorha yaaroN ne.

    ReplyDelete
  13. होली की बधाई एवम घणी रामराम.

    ReplyDelete
  14. वाह। निदा साहब की पङ्क्ति का बहुत खूवसूरत प्रयोग किया है. मै इसे फेसवुक पर डाल रहा हूँ ।

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय