Monday, October 13, 2008

उसकी एक आदत की तरह


सिर्फ आंसू ही रह गये थे,
आंखों में,
उसकी एक आदत की तरह,
वो जब भी मिला तन्हाई में,
मुझसे,
तो बात हुई,
एक शिकायत की तरह,

न वो समझ सका था मुझे,
न मैं ही समझ रही थी,
वक्त ने भी समझाया हमें तो,
सिर्फ एक आंसू की तरह,
वो जब भी मिला तन्हाई में,
मुझसे,
तो बात हुई,
एक शिकायत की तरह।
..............
प्रीती बङथ्वाल "तारिका"
(चित्र - सभार गुगल )

43 comments:

  1. सुंदर हमेशा की तरह्।

    ReplyDelete
  2. वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह।
    ... अत्यंत सुन्दर रचना है।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  4. न वो समझ सका था मुझे,
    न मैं ही समझ रही थी,
    वक्त ने भी समझाया हमें तो,
    सिर्फ एक आंसू की तरह,

    आप भावो को बड़ी खूबी से अभिव्यक्त कर लेती हैं ! और ये बड़ी बात है ! बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. वक्त ने भी समझाया हमें तो,
    सिर्फ एक आंसू की तरह,
    ....
    बहुत सुन्दर भावना

    ReplyDelete
  6. वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह।

    ye line khaas pasand aayi.

    ReplyDelete
  7. न वो समझ सका था मुझे,
    न मैं ही समझ रही थी,
    वक्त ने भी समझाया हमें तो,
    सिर्फ एक आंसू की तरह,

    bahut sunder....

    ReplyDelete
  8. वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह,

    sach mein kitna dard hai, aapne apne manobhav kalam ke zariye kaagaz par utaar kar rakh diye hain. bahut hi shaandaar rachna, badhai sweekaren.
    www.merakamra.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. प्रीति जी हमेशा की ही तरह आपने एक सुन्दर कल्पना , भाव प्रस्तुत करती कविता लिखी है । पढ़कर शुकुन मिलता है । धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. "वो जब भी मिला तन्हाई में मुझसे,
    तो बात हुईएक शिकायत की तरह."

    सच्चे मन से
    जो भी लिखा जाता है
    वो अच्छा ही होता है..
    बधाई.

    ReplyDelete
  11. वाहवा तारिका जी...
    बेहद सुंदर कविता के लिये बधाई....

    ReplyDelete
  12. न वो समझ सका था मुझे,
    न मैं ही समझ रही थी,
    वक्त ...... युही गुजर गया....
    हमेशा की तरह से लाजवाब, बहुत सुन्दर भाव.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. हमेशा की तरह पढना अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  14. preeti ji
    dil key zazbaton ko khoobsurti sey shabdon sey aakaar diya hai. wah.

    आपने बहुत अच्छा िलखा है । अापकी प्रितिक्र्या को मैने अपने ब्लाग पर िलखे नए लेख में शािमल िकया है । आप चाहें तो उसे पढकर अपनी प्रितिक्रया देकर बहस को आगे बढा सकते हैं ।

    http://www.ashokvichar.blogspot.comं

    ReplyDelete
  15. न वो समझ सका था मुझे,
    न मैं ही समझ रही थी,
    वक्त ने भी समझाया हमें तो,
    सिर्फ एक आंसू की तरह!

    बहुत सुंदर!

    ReplyDelete
  16. न वो समझ सका था मुझे,
    न मैं ही समझ रही थी,
    वक्त ने भी समझाया हमें तो,
    सिर्फ एक आंसू की तरह,
    वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह।
    आपकी लेखनी से रोशनाई नहीं जादू निकलता है बेहतरीन कविता पढ़वाने के लिए धन्यवाद मेरी नई रचना कैलंडर पढने हेतु आप सादर आमंत्रित हैं

    ReplyDelete
  17. hum bhi samajh n sake
    aapke aansu
    paani ki speed photogarpy ke sath kyo hain

    ReplyDelete
  18. न वो समझ सका था मुझे,
    न मैं ही समझ रही थी,
    वक्त ने भी समझाया हमें तो,
    सिर्फ एक आंसू की तरह,
    वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह।

    अहसासातों को लफ्ज़ों में ढालने की कला बहुत खुब है आपमें। जज्‍़बात के आईने में शब्‍दों का प्रति‍बि‍म्‍ब मन को पूरी तरह सुकुन देता है। आपकी कवि‍ता के प्रति‍ की गई मेहनत और बि‍ना शाति‍र हुए सरल भाषा का प्रयोग ही आपकी कवि‍ता की ताकत है। बधाई।

    ReplyDelete
  19. सिर्फ आंसू ही रह गये थे,
    आंखों में,
    उसकी एक आदत की तरह,
    वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह,

    priti its really nice, wat a thought, that he has become a habit. congrats

    ReplyDelete
  20. preeti jee,
    aaj pehlee baar apko padhaa hai, yakeen maniye age bhee ye sililaa bana rahegaa. dhanyavad.

    ReplyDelete
  21. nazar ne nazar se mulakar kar li,khamosh the dono magar bat kar li, isk kee kheti ko jab sukha dekha to aankhon ne ro ro ke barsat kar li. vaise tanhai me milna hee aslimilna hota hai kyonki jab koi dekhane wala nahi hota

    ReplyDelete
  22. न वो समझ सका था मुझे,
    न मैं ही समझ रही थी,
    वक्त ने भी समझाया हमें तो,
    सिर्फ एक आंसू की तरह,
    वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह।

    wah ji wah behtarin kalaam......

    ReplyDelete
  23. बढ़ि‍या लगी कवि‍ता। आज ही आपकी पि‍छली दो कवि‍ताऍ पढीं। जगदम्‍बे माँ को आपने सच्‍चे ह्रदय से श्रद्धा सुमन अर्पित कि‍या है।
    उससे पहले की कवि‍ता खास है-
    उन्हीं रास्तों पर शायद,
    वो ख्वाब फिर नजर आएंगे

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छी रचना है जी...। एक-एक शब्द नगीने की तरह जड़े हैं। अब रोज यहाँ आता रहूंगा।

    ReplyDelete
  25. दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं /दीवाली आपको मंगलमय हो /सुख समृद्धि की बृद्धि हो /आपके साहित्य सृजन को देश -विदेश के साहित्यकारों द्वारा सराहा जावे /आप साहित्य सृजन की तपश्चर्या कर सरस्वत्याराधन करते रहें /आपकी रचनाएं जन मानस के अन्तकरण को झंकृत करती रहे और उनके अंतर्मन में स्थान बनाती रहें /आपकी काव्य संरचना बहुजन हिताय ,बहुजन सुखाय हो ,लोक कल्याण व राष्ट्रहित में हो यही प्रार्थना में ईश्वर से करता हूँ ""पढने लायक कुछ लिख जाओ या लिखने लायक कुछ कर जाओ ""

    ReplyDelete
  26. वक्त ने शिकायत की जब रुसवाई में
    सिर्फ आंसू ही रह गये तन्हाई में

    ReplyDelete
  27. वक्‍त ने भी समझाया हमें तो
    सिर्फ एक आंसू की तरह

    बेहतरीन रचना है प्रीती जी

    ReplyDelete
  28. hi dear friend,
    how r u?
    pls visit this blog for great information..

    http://spicygadget.blogspot.com/.

    thank you dear
    take care..

    ReplyDelete
  29. bahut sunder rachana
    aap pr sarswati ki kripa he
    kripua humra dustbin jhanke
    regards

    ReplyDelete
  30. वो जब भी मिला तन्हाई में,
    मुझसे,
    तो बात हुई,
    एक शिकायत की तरह।
    nice

    ReplyDelete
  31. वो जब भी मिला तन्हाई में,मुझसे,
    तो बात हुई ,एक शिकायत की तरह....
    कमाल है..अच्छी कविता के लिये.. बधाई

    ReplyDelete
  32. सच.....इतनी शिकायतें और उलाहने हैं हर किसी के पास कि कभी-कभी तो ऐसा लगता है कि जिंदगी प्यार नहीं बल्कि सिर्फ़ शिकायते हैं ....!!

    ReplyDelete
  33. पहली बार आपको पढा .अच्छा लगा.
    शुभकामनाऍ

    ReplyDelete
  34. पहली बार आपको पढा .अच्छा लगा.
    शुभकामनाऍ

    ReplyDelete
  35. bahut sundar blog banaya aapane mai to dang rah gaya. kho gaya chitron me. kitane jatan se yah bana hoga . ek lamha jindagi ka yoon chhukar gujar gaya. mout ne mujhe jaise jindagi ki jholi me dal diya. khannnnnnnnannnnn.......
    badhai.

    ReplyDelete
  36. Phele Baar aapko phada....kaafi sundar rachna hai aapki..dil ko chu gayee....isi tarah aap hamesha likhtee rahen.....

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय