Tuesday, October 7, 2008

जगत जननी मां अम्बे

जगत जननी, जगत अम्बे
तू है मां वर दायनी,
सृष्टी की रचना में तू मां,
तू ही सृष्टी नाशनी।

तू ही अम्बर ,तू धरा मां,
प्रकृति ये तेरी गोद है,
दे रही आंचल, हवा मां,
तेरी नजर, चारों और है।

कर दया मां, हम हैं नादा,
भूल हुई जो माफ करना,
तू है ममता की धनी मां,
हम तो तेरे फूल है।
.............
प्रीती बङथ्वाल "तारिका"
(आप सभी को नवरात्रों की शुभकामनाऐं। मां दुर्गा सभी को अपना ममता रुपी आशिर्वाद दें यही मां अम्बे से प्रार्थना करती हूं )
(चित्र - सभार गुगल)

22 comments:

  1. बहुत बढ़िया.

    आप को भी सपरिवार नवरात्रों की शुभकामनाऐं। :)

    ReplyDelete
  2. आज अष्टमी है.बधाई.
    जय माता दी.

    ReplyDelete
  3. कर दया मां, हम हैं नादा,
    भूल हुई जो माफ करना,
    तू है ममता की धनी मां,
    हम तो तेरे फूल है।
    बहुत सुंदर प्रार्थना है ! आपने ये प्राथना हमसे भी करवा दी ! अपनी भूलों की क्षमा माँ से आज अष्टमी को हमने भी मांग ली !
    बहुत धन्यवाद आपका !

    ReplyDelete
  4. Durgashtmi ki bathai ho.
    Aapne maa durga ki jo upma ki h wo kabile tarif h. Aapne uski upasthati aur mahima ka jo gungan kiya h wo bhi parshansniye h.
    Bathai ho.
    Ramesh Sachdeva
    hpsdabwali07@gmail.com

    ReplyDelete
  5. Badhai ho. maa durgaji ko achhe dhang se naman kiya hai aapne.

    ReplyDelete
  6. तू है ममता की धनी मां,
    हम तो तेरे फूल है।
    बहुत सुंदर लिखा है माँ अम्बे के लिए...
    आपको भी नवरात्री की बेहद शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  7. आप को भी सपरिवार नवरात्रों की मुबारकबाद....बहुत अच्छा...

    ReplyDelete
  8. मां जगदम्बा की प्रार्थना में आप सभी शामिल हुए।
    आप सभी को मां जगदम्बा का प्यार मिले यही कामना करती हूं।
    जय माता दी।

    ReplyDelete
  9. जगत जननी, जगत अम्बे
    तू है मां वर दायनी,
    सृष्टी की रचना में तू मां,
    तू ही सृष्टी नाशनी।

    प्रमाण माँ को !

    ReplyDelete
  10. maa ki archna ati sundar....
    maa ka aashirwaad rahe

    ReplyDelete
  11. बहुत खुब ,
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. जय माता दी ।
    अच्छा लिखा है ।

    ReplyDelete
  13. preetiji,
    aapkey liye bhi navratra ki shabhkamnayein.

    bahut sundar bhav hai-

    तू ही अम्बर ,तू धरा मां,
    प्रकृति ये तेरी गोद है,
    दे रही आंचल, हवा मां,
    तेरी नजर, चारों और है।

    prabhavshali abhivyakti.

    mere blog per naye lekh -kitni ladaien ladeingi ladkiyan- per aap ki rai apekshit hai.

    httP://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. samast vishwa par maa ka aasheervad bana rahe.

    --------------Vishal

    ReplyDelete
  15. samast vishwa par maa ka aasheervad bana rahe.

    --------------Vishal

    ReplyDelete
  16. samast vishwa par maa ka aasheervad bana rahe.

    --------------Vishal

    ReplyDelete
  17. तीर स्नेह-विश्वास का चलायें,
    नफरत-हिंसा को मार गिराएँ।
    हर्ष-उमंग के फूटें पटाखे,
    विजयादशमी कुछ इस तरह मनाएँ।

    बुराई पर अच्छाई की विजय के पावन-पर्व पर हम सब मिल कर अपने भीतर के रावण को मार गिरायें और विजयादशमी को सार्थक बनाएं।

    ReplyDelete
  18. तू ही अम्बर तू ही धरा माँ /
    चारों ओर की जगह चहुँ ओर
    कर दया माँ की जगह कर दे दया माँ

    ReplyDelete
  19. जगत जननी, जगत अम्बे
    तू है मां वर दायनी,
    सृष्टी की रचना में तू मां,
    तू ही सृष्टी नाशनी।

    तू ही अम्बर ,तू धरा मां,
    प्रकृति ये तेरी गोद है,
    दे रही आंचल, हवा मां,
    तेरी नजर, चारों और है।

    कर दया मां, हम हैं नादा,
    भूल हुई जो माफ करना,
    तू है ममता की धनी मां,
    हम तो तेरे फूल है।
    .............

    maa ko sha shat naman.

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय