Friday, September 4, 2009

जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं..........

आज नितीश राज जी (मेरे सपने मेरे अपने) का जन्मदिन है। उन्हें इस अवसर पर जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई । सोचा आज के इस शुभ दिन में अपनी रचना उन्हें तोहफे के रूप में दूं आशा है पसन्द आएगी।









मीठे पल, मीठी यादों का,
साथ हो हरदम, मीठे वादों का,
पलभर को भी गर आए आंसू,
स्वाद हो उनमें, मीठी सांसों का।



ग़म घेरे कभी तुम्हें यूं,
कि अन्धकार आंखों में छाए,
खुशियों की थाली में तुमको,
खिले फूलों की, खुशबू आए।



तुम्हें हो हासिल, सागर की खुशियां,
मिले वो मोती, हो जिनमें दुनियां,
देखे ख्वाब सच्चे हो जाएं,
कुछ खुशियों में मुस्कुराए,
और कुछ खिलखिलाए।



हो तुम्हें मुबारक, साल का ये दिन,
रहे अपनों का साथ हमेशा,
जब भी मुङ कर पीछे देखो,
पाओ अपनों को पास हमेशा।

..............
प्रीती बङथ्वाल “तारिका”
(चित्र- साभार गूगल)

20 comments:

  1. नितीश जी को जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें । आपकी इस रचना से नितीश जी का यह दिन और भी खास हो गया है ।

    ReplyDelete
  2. नितीश जी को जन्मदिवस की बहुत बह्दाई एवं हार्दिक शुभकामनायें..आपकी रचना सुन्दर भेंट है!!

    ReplyDelete
  3. सुंदर भावपूर्ण रचना। नीतेश जी को जन्मदिन की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  4. हमारी तरफ़ से भी बधाई! सुन्दर कविता है भाई!

    ReplyDelete
  5. सुंदर तरीका बधाई देने का. नितीशजी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. भावपूर्ण रचना
    नितीश जी को बधाई।

    यहाँ भी उनकी जनमदिन पोस्ट है

    आपने भी शायद अपनी खुद की जनमदिन पोस्ट नहीं देखी है :-(

    ReplyDelete
  7. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई नितीश जी को बहुत बढ़िया लिखी है आपने कविता

    ReplyDelete
  8. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई नितीश जी को,..आपकी रचना लाजवाब है, । आपने जो अपना फोटो लगा रखा है उपर, आप उसमे बहुत ही-बहुत-ही सुन्दर लग रहीं हैं।

    ReplyDelete
  9. भई हमारी तरफ से भी जन्मदिन की ढेर सारी खुशियाँ...
    अब जन्मदिन पर इस खूबसूरत कविता से अच्छा तोहफा क्या हो सकता है...
    मीत

    ReplyDelete
  10. हमारी तरफ़ से भी बधाई!
    सुन्दर कविता जहाँ एक ओर आपका अनमोल उपहार है, वहीँ ब्लॉग जगत को भी एक अच्छी दिल से, प्यार से रची रचना पढने को मिली.
    हार्दिक धन्यवाद.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. बधाई तो हम दे ही आये है, अब आप भी इस सुंदर रचना के लिये हमारा धन्यवाद स्वीकार करे

    ReplyDelete
  12. तुम्हें हो हासिल, सागर की खुशियां,
    मिले वो मोती, हो जिनमें दुनियां,
    देखे ख्वाब सच्चे हो जाएं,
    कुछ खुशियों में मुस्कुराए,
    और कुछ खिलखिलाए।
    इस सुन्दर रचना के लिये बधाई,नितीश जी को जन्मदिन की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. हमारी ओर से भी एक कुंतल बधाई पहुंचाइएगा, प्लीज।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  14. सुन्दर कविता .
    नितीश जी को हमारी तरफ़ से भी बधाई.

    ReplyDelete
  15. kavita ke kya kahane aur wo bhi khas mauke par waah nitish ji ko mere taraf se bhi bahut bahut badhaayee ......



    arsh

    ReplyDelete
  16. आपका बहुत-बहुत धन्यवाद प्रीती जी। इतनी सुंदर रचना के लिए भी आपका धन्यवाद। साथ ही सभी साथियों का भी धन्यवाद।

    ReplyDelete
  17. नितीश राज जी ko janmdin kee bahut bahut badhai..... aur rachna bhi bahut sunder hai....

    हो तुम्हें मुबारक, साल का ये दिन,
    रहे अपनों का साथ हमेशा,
    जब भी मुङ कर पीछे देखो,
    पाओ अपनों को पास हमेशा।

    bahut hi khoobsoorat lines........

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन रचना. नीतेश जी को जन्मदिन की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  19. अरे वाह.....इस तरह की बधाईयाँ तो कभी हम भी दिया करते थे......कहाँ गयी हमारी वो बधाईयाँ......अच्छा तो वो आपने हमसे चूरा ली थीं.....??आज पकड़ में आई आप.....तभी तो मैं सोचूं.....कि....भूतनाथ इधर किसी की बलैयां क्यूँ नहीं ले पाता......खैर देर आयद....दुरुस्त आयद.....अब मैं अपनी अमानत वापस ले जा रहा हूँ......और हाँ....बदले में इससे दुगुनी दे भी जा रहा हूँ......क्या कहा....दुगुनी से काम नहीं चलेगा......???........अच्छा बाबा.....अच्छा दस-गुनी....ले लो....अब तो बस......!!!

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय