Monday, September 21, 2009

मां पार लगा दे नैया....




शुभ नवरात्रि

मां तेरे रंग में रंग जांएगे,
मां तेरे ही हम गुण गाएंगे,
हम बच्चें तेरे हैं, तू है मैया,
मां पार लगा दे नैया, मां पार लगा दे नैया।




तू दर आये की सुनती,
तू हर खुशियों को बुनती,
मेरी  इक आस है मैया,
मेरे घर भी आये मैया,
मां पार लगा दे नैया, मां पार लगा दे नैया।





इस जगत में भटक रहें हैं,
किस बात को तरस रहें हैं,
ये समझ में आये कहीं ना,
तू अब राह दिखादे मैया,
मां पार लगा दे नैया, मां पार लगा दे नैया।




भक्तों की आस तुम्हीं हो,
भक्तों की आवाज़ तुम्हीं हो,
भगती को ऐसे, ठुकराओ नहीं मां,
हमें गले लगा ले मैया,
मां पार लगा दे नैया, मां पार लगा दे नैया।

         .................


प्रीती बङथ्वाल तारिका
(चित्र साभार गूगल)

15 comments:

  1. बहुत बढ़िया,

    नवरात्रे की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  2. नवरात्रे की शुभकामनाएँ.
    आभार

    हे प्रभू यह तेरापन्थ

    SELECTION & COLLECTION

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर, नवरात्र की शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. बहुत मनभावन रचना . नवरात्र पर्व की हार्दिक शुभकामना .

    ReplyDelete
  5. बहुत बढिया रचना .. जय माता दी !!

    ReplyDelete
  6. एक सुन्दर भक्ति गीत ! नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया रचना , नवरात्र की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रार्थना . माँ आपकी मनोकामना पुरी करे

    ReplyDelete
  9. आपको भी नवरात्री और ईद की ढेरों शुभकामनायें..
    रचना बेहद खूबसूरत है...
    मीत

    ReplyDelete
  10. आपको नवरात्रे की शुभकामनाएँ. आप की रचना बहुत खूबसूरत है.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत रचना
    नवरात्रे की शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  12. Nice written

    My best wishes for Navratra

    ReplyDelete
  13. या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता, या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता, या देवी सर्वभूतेषु बुद्धि रूपेण संस्थिता या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता। आप,परिवार और सगे संबधियो पर मां का आश्रीवाद बना रहे -शुभकामनाओ सहित, प्रतिबिम्ब एवम परिवार

    ReplyDelete
  14. इष्टमित्रों और परिवार सहित आपको, दशहरे की घणी रामराम.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर, नवरात्र की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय