Friday, January 1, 2010

चलो चलें एक नये से ख्वाब में.......








 


एक कदम में बढ़ चले हम,
 एक नये से साल में, 
एक नई मंजिल को थामें, 
एक नये से ख्वाब में। 






  
है सफर ये फिर वही, 
जोकि पिछली बार था, 
है मगर अब नई उमंगे, 
एक नयी सी बात में।






  
कुछ कहानी कल की होगी, 
कुछ नई-सी बात होगी, 
कुछ को पिछले ख्वाब की, 
हल्की-फुल्की सी आस होगी।





  
है दुआएं सब को ये, 
नया सफर सुहाना बनें, 
हम तुम्हें और तुम हमें, 
साल मुबारक कहते रहें। 


------------

 
प्रीती बङथ्वाल तारिका
(चित्र साभार गूगल)


 आप सभी को नववर्ष की बहुत-बहुत शुभकामनाएं......

16 comments:

  1. kai dino ke bad tazgi ka anubhav hai kam shabd lekin bhut shandar vah ......vahhhhhhhhhhhhh

    ReplyDelete
  2. आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये.
    सुख आये जन के जीवन मे यत्न विधायक हो
    सब के हित मे बन्धु! वर्ष यह मंगलदयक हो.

    (अजीत जोगी की कविता के अंश)

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर रचना .. आपके और आपके परिवार के लिए भी नया वर्ष मंगलमय हो !!

    ReplyDelete
  4. Badiya prastuti,
    Apko bhi naw varsh mangal may ho...!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर!!


    वर्ष २०१० मे हर माह एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाने का संकल्प लें और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।

    - यही हिंदी चिट्ठाजगत और हिन्दी की सच्ची सेवा है।-

    नववर्ष की बहुत बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ!

    समीर लाल

    ReplyDelete
  6. अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. nice work...........n a very happy new year to u n ur family......

    ReplyDelete
  8. naye saal par aapko bhi dheron badhai...
    or is sunder rachna ke liye abhaar...
    meet

    ReplyDelete
  9. happy new year to you too....... its a nice poem, thts true v all move wid a new energy every new year........

    ReplyDelete
  10. आपको भी नया साल मुबारक।

    ReplyDelete
  11. वाह,वाह। नये साल की शुभकामनायें। नये साल में नियमित लिखें।

    ReplyDelete
  12. इस सुरुचिपूर्ण ब्लॉग हेतु आपको साधुवाद। विविधताओं से भरा एक सराहनीय मंच है आपका।

    ReplyDelete
  13. नये साल पर आपकी बेहतरीन कविता

    ReplyDelete

मेरी रचना पर आपकी राय